News

International Men’s Day 2022: कब, क्यों, और किसलिए मनाया जाता है अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस ?

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर कहीं महिलाओं को तोहफे दिए जाते हैं तो कहीं महिलाओं को इस दिन की ढेर सारी शुभकामनाएं दी जाती हैं. लेकिन पुरुषों का क्या? क्या महिला दिवस की तरह कोई International Men’s Day अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस भी होता है? जी हां, बिल्कुल होता है और लोग इसे मनाते भी हैं. फर्क सिर्फ इतना है कि इसकी लोकप्रियता महिला दिवस जितनी नहीं है. तो चलिए जानते हैं पुरुष दिवस के बारे में कि ये कब, क्यों और किस लिए मनाया जाता है?

International Men’s Day 2022 अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस हर साल 19 नवंबर को मनाया जाता है. जिसका मकसदपुरुषों और बच्चों के स्वास्थ्य, लैंगिक समानता और आदर्श पुरुषों के बारे में दुनिया को बताना होता है.

यह भी पढ़िए – Indore: पूर्व सैन्यकर्मी ex-serviceman कैसे बना लुटेरा. . . पढ़िए पूरी कहानी

क्यों मनाया जाता है International Men’s Day

दरअसल वर्ष 1999 में त्रिनिदाद और टोबैगो में वेस्ट इंडीज विश्वविद्यालय के इतिहास के प्रोफेसर डॉ. जेरोम तिलक सिंह ने अपने पिता के जन्मदिन को 19 नवंबर के दिन मनाया। उन्होंने पुरुषों के मुद्दों को उठाने के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया। इसके बाद से 19 नवंबर 2007 में पहली बार International Men’s Day अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया गया। तब से यह दिन पुरे विश्व में अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस के रूप में मनाया जाने लगा.

International Men’s Day 2022की थीम

अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस International Men’s Day हर साल 19 नवंबर को मनाया जाता है. पुरुष दिवस का फोकस पुरुषों और बच्चों के स्वास्थ्य, लैंगिक समानता और आदर्श पुरुषों के बारे में दुनिया को बताना होता है. पुरुष दिवस 1960 के दशक से ही मनाया जा रहा है.

यह भो पढ़िए – Indore: Rahul Gandhi threat – राहुल गाँधी को जान से मारने की धमकी

अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस International Men’s Day के दिन पुरुषों की उपलब्धियों का उत्सव मनाया जाता है और साथ ही समाज, परिवार, विवाह और बच्चों की देखभाल में पुरुषों के सहयोग पर भी बात होती है.

इस साल अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस 2022 की थीम (Theme for International Men’s Day 2022) ‘पुरुषों और लड़कों की मदद करना‘ (Helping Men and Boys) रखी गई है। जिसका उद्देश्य विश्व स्तर पर पुरुषों और लड़कों के स्वास्थ्य और कल्याण में सुधार करना है।

अतंरराष्ट्रीय पुरुष दिवस की लेकर एक आधिकारिक वेबसाइट भी है और फेसबुक पेज भी बना हुआ है. इनके जरिए डोनेशन ली जाती है.

यह भी पढ़िए – SSC Recruitment 2022 : 24369 पदों के लिए यहाँ करें आवेदन

International Men’s Day इसलिए है जरूरी

भले ही आपको ऐसा लगे कि भारत पुरुष प्रधान देश है और यहां महिलाओं को ध्यान में रखते हुए महिला दिवस जैसे उत्सव मनाने जरूरी हैं. लेकिन यकीन मानिए, पुरुष भी कम बेचारे नहीं हैं. पुरुषों की भी अपनी ऐसी समस्याएं हैं, जिनसे उन्हें जूझना पड़ता है इसलिए पुरुष दिवस International Men’s Day के दिन पुरुषों की उपलब्धियों का उत्सव मनाया जाना चाहिए ताकि समाज, परिवार, विवाह और बच्चों की देखभाल में पुरुषों के सहयोग पर भी बात अंतर्राष्ट्रीय मंच पर की जा सके.

कुछ आंकड़े आपका ध्यान इस ओर खींचने में मदद कर सकते हैं. 76 फीसदी आत्महत्याएं पुरुष करते हैं, 85 फीसदी बेघर लोग पुरुष हैं, 70 फीसदी हत्याएं पुरुषों की हुई हैं, घरेलू हिंसा के शिकारों में भी 40 फीसदी पुरुष हैं. तो अगर महिला और पुरुष को समानता के पैमाने पर रखना है तो महिला दिवस के साथ-साथ पुरुष दिवस International Men’s Day भी मनाना जरूरी है. इन्हीं सब कारणों के चलते पुरुष दिवस को भी मनाया जाता है.

यह भी पढ़िए – mp excise recruitment 2022: आबकारी विभाग में इतने पदों की भर्ती

इसलिए जरुरी है International Men’s Day ?

8 मार्च को मनाए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का उद्देश्य महिलाओं के अधिकार, लैंगिक समानता, महिलाओं के प्रति सम्मान और उनकी उपलब्धियों को दुनिया के सामने लाना होता है. इस दिन उन महिलाओं के प्रति खास सम्मान व्यक्ति किया जाता है, जिन्होंने आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक क्षेत्र में अहम योगदान दिया है.

लेकिन इसका ये मतलब नहीं है कि घरेलू महिलाओं को भूल जाया जाता है, उन्हें भी सम्मान दिया जाता है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सभी महिलाओं को मुख्यधारा से जोड़ने पर बहस भी होती है. महिला दिवस का मुख्य उद्देश्य महिलाओं में इस भावना को जगाना है कि वह किसी भी मामले में पुरुषों से कमतर नहीं हैं. अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की शुरुआत 1909 में हुई थी.

आखिर जो लोग सोशल मीडिया पर ये पूछते हैं कि पुरुष दिवस कब International Men’s Day होता है या फिर यह शिकायत करते हैं कि पुरुष दिवस भी महिला दिवस की तरह क्यों नहीं मनाया जाता है, उनकी बात एक हद तक सही भी है. महिला दिवस मनाने का मुख्य मुद्देश्य उन्हें सम्मान देना है और यह दिखाना है कि वह किसी भी मामले में पुरुषों से कम नहीं हैं,

अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस International Men’s Day को नजरअंदाज कर देने से समानता की बात करने वाले लोगों पर एक सवालिया चिन्ह जरूर लगता है. इसकी वजह से कुछ हद तक पुरुषों को दुख जरूर पहुंचाता है.

जुड़िये News Merchants Team से – देश, दुनिया,प्रदेश,खुलासा, बॉलीवुड,लाइफ स्टाइल,अलग हटके,धर्म,शेयर बाज़ार,सरकारी योजनाओं आदि कृषि सम्बंधित जानकारियों के अपडेट सबसे पहले पाने के लिए हमारे WhatsApp के ग्रुप ज्वाइन करें हमारे को Facebook पेज को like करें-शेयर करें।

राहुल कुमार शर्मा

में राहुल कुमार शर्मा News Merchants.com हिंदी ब्लॉग का को-फाउंडर हूँ तथा जिला स्तरीय अधिमान्य पत्रकार होने के साथ सामाजिक और धार्मिक खबरों की रिपोर्टिंग करता हूँ देश प्रदेश की योजनाओं और और सम सामायिक विषयों की जानकारी के लिए आप मुझसे संपर्क कर सकते हैं। हमारा उद्देश्य है कि आपको News Merchants.com के माध्यम से अच्छी सटीक और नई जानकारियाँ मिल सकें।

Related Articles

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker